Connect with us

पेट्रोल डीजल की बेतहाशा मुल्यवृद्धि के खिलाफ माकपा ने लातेहार में प्रधानमंत्री का पुतला फुंका।

खबर सीधे आप तक

पेट्रोल डीजल की बेतहाशा मुल्यवृद्धि के खिलाफ माकपा ने लातेहार में प्रधानमंत्री का पुतला फुंका।

लातेहार चंदवा : भारत की कम्युनिस्ट पार्टी
(मार्क्सवादी) (माकपा) ने कामता स्थित चौंक में लॉकडाउन सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए पेट्रोल डीजल की मुल्यवृद्धि के खिलाफ प्रदर्शन कर आक्रोश व्यक्त किया, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पुतला फुंका, इसमें शामिल लोग पेट्रोल डीजल का दाम कम करो, मोदी सरकार कुछ तो शर्म करो, कोरोना संकट मे महंगाई की मार शर्म करो मोदी सरकार आदि नारे लगा रहे थे, इस कार्यक्रम में शामिल लोगों को संबोधित करते हुए पार्टी के पूर्व जिला सचिव सह चतरा लोकसभा क्षेत्र के पूर्व प्रत्याशी अयुब खान ने कहा है कि पेट्रोल डीजल की दामों में लगातार बढ़ोतरी किए जाने से देश की आमजनता केंद्र की भाजपा नेतृत्व वाली जनविरोधी मोदी सरकार से त्रस्त हैं, इनके गलत नीतियों ने देश की जनता को सड़क पर लाकर खड़ा कर दिया है, लोगों के काम और रोजगार खत्म हो गए हैं,

आमदनी नहीं है, उपर से महंगाई ने पहले ही कमर तोड़ दी है, अंतर्राष्ट्रीय बाजार मे कच्चे तेल की कीमत में कमी आने के बाद भी इसका फायदा देश की जनता को नहीं हो रहा, वैश्विक महामारी लॉकडाउन के कारण भुखमरी जैसी स्थिति है, ऐसी संकट में प्रति दिन डीजल पेट्रोल का दाम बढ़ने से जनता पर चौतरफा बोझ पड़ रहा है।

शनिवार को लगातार 21वें दिन दामों में बढ़ोतरी हुआ है, अब पेट्रोल 80 के पार हो गया है, जबकि डीजल तो पहले से ही यह आंकड़ा पार कर चुका है, केंद्र सरकार के लिए यह कमाई का जरिया बन गया है, फिलहाल ही केंद्र सरकार ने पेट्रोल पर 10 और डीजल पर 13 रुपये प्रति लीटर एक्साइज ड्यूटी सीधे बढ़ाकर पेट्रोलियम कंपनियों को फायदा पहुंचाया जा रहा है, आज तेल पर जनता से भारी भरकम टैक्स वसूला जा रहा है, पेट्रोल डीजल की बढ़ती कीमतों का सबसे ज्यादा असर हाशिये पर खड़े गरीबों, किसानों और मजदूरों पर पड़ता है, केंद्र की क्रूर सरकार ने दाम बढ़ाकर पहले से बेरोजगारी, महंगाई से जूझ रही आमजन के छोटी आमदनी को भी चूस लेने और उन्हें गढ्ढे में ढकेलने का कार्य की है साथ ही आम आदमी की जेब पर डाका डाला है, पेट्रोल डीजल के बढ़ते दामों के कारण महंगाई आसमान छु रही है, लोगों की रोजमर्रा की जरूरतों की चिजें, खाने पीने की समानों, यूरीया डीएपी खाद्य, बीज, परिवहन माल भाड़ा और मंहगा हो जाएगा, जो सरकार मुसीबत में लोगों को राहत पहुंचाने के बजाय परेशानी में डाले उस सरकार को सत्ता में बने रहने का कोई अधिकार नहीं है, इस संकट के समय सरकार ने किमत में वृद्धि कर लोगों के जले हुए जख्म पर नमक छिड़कने का काम किया है जो बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है, पार्टी ने पेट्रोल डीजल की दाम प्रति लिटर 30 रूपये से कम करने की मांग की है, प्रदर्शन में साजीद खान, अजीज खान, इजहार खान, इस्तेखार खान, सनीफ मियां, सजेबुल खान, नसीम खान समेत कई लोग शामिल थे।

Continue Reading
You may also like...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in खबर सीधे आप तक

विज्ञापन | Advertisement

ट्रेन्डिंग् टॉपिक्स

विज्ञापन के लिए संपर्क करें: +91-8138068766

To Top