Connect with us

पी/पेसा पर सत्यभारती रांची में वर्कशॉप (परिचर्चा) का आयोजन

खबर सीधे आप तक

पी/पेसा पर सत्यभारती रांची में वर्कशॉप (परिचर्चा) का आयोजन

श्री थियोडोर किरो (पूर्व विधायक और मंत्री) ने इस वर्कशॉप की अध्यक्षता की
और राउरकेला से आये श्री सिप्रियन किरो और उसकी टीम ने पूरे परिचर्चा को एक दिशा और व्यावहारिक मार्गदर्शन (टिप्स) दिया.

दरअसल पी/पेसा कानून 1996 के सन्दर्भ में ‘ग्राम-सभा’ को लेकर अलग-अलग लीडरशिप (नेतृत्व) समूहों, अलग-अलग NGO/संगठन समूहों, अलग-अलग आदिवासी समुदायों, यहाँ तक कि अलग-अलग ‘कानूनों’ के द्वारा भी अपनी-अपनी जो व्याख्याएं (भ्रांतियां) फैली हुई हैं ….
और आज जो पूरा आदिवासी समाज अपने ही लोगों के नेतृत्व के टकराव (Leadership Clash) की यंत्रणा से गुजर रहा है .. ..
उन सारी चीजों पर खुलकर चर्चा की गयी.

दूसरी बात जिस पर चर्चा की गयी वह यह थी कि
अनुसूचित क्षेत्रों के लिए self-governance (स्वशासन) के लिए किस ढांचे (structure) ; त्रिस्तरीय व्यवस्था (पंचायत, पंचायत समिति, जिला परिषद्) अथवा दुविस्तारीय व्यवस्था (ग्राम सभा , जिला स्वशासी परिषद्) की परिकल्पना की गयी है?
चर्चा में यह बात सामने आयी कि विभिन्न दलीय सरकारों के द्वारा हमें “त्रिस्तरीय व्यवस्था” में रखने की कोशिश की गयी है चूँकि यह त्रिस्तरीय व्यवस्था सरकारों और सरकार के तंत्र के “अनुकूल” है .

तो इसके जवाब में पूरे आदिवासियों को अपने वास्तविक मुद्दों और समस्याओं पर एकजुट होकर कानूनी ज्ञान से सशक्त होने की आवश्यकता है….तभी हम इस वर्तमान पुराने मकान को गिरा कर एक नए मकान में जा सकेंगे.
तीसरी बात जिस पर सहमति बनी वह यह कि अब हम झारखण्ड, ओड़िसा और छत्तीसगढ़ के सभी सामाजिक संगठनों/ कार्यकर्ताओं को आपसी सहयोग और सामंजस्य से अपने समाज के उत्थान के लिए काम करना चाहिए.

Continue Reading
You may also like...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in खबर सीधे आप तक

विज्ञापन | Advertisement

ट्रेन्डिंग् टॉपिक्स

विज्ञापन के लिए संपर्क करें: +91-8138068766

To Top