Connect with us

जी.एस. पब्लिक स्कूल डोमचांच के प्रांगण में मनाया गया 71वां गणतंत्र दिवस

खबर सीधे आप तक

जी.एस. पब्लिक स्कूल डोमचांच के प्रांगण में मनाया गया 71वां गणतंत्र दिवस

कोडरमा: जी. एस. पब्लिक स्कूल के विद्यालय प्रांगण में बड़े ही धूम धाम से 71वां गणतंत्र दिवस मनाया गया। इस मौके पर कोडरमा विधायिका डॉ.नीरा यादव ने बच्चों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक बधाई और अपने आशीर्वचन दिए।मौके पर मौजूद जीप सदस्य शांति प्रिया ने भी बच्चों को ढेर सारी बधाई दी। कार्यक्रम में विद्यालय के अध्यक्ष श्री प्रदीप सिंह ने झंडो-तोलन कर राष्ट्रीय तिरंगे झंडे को सलामी दी। इस अवसर पर विद्यालय में मौजूद अतिथि डोमचांच प्रमुख सत्यनारायण यादव,बी.डी.ओ. मनीष कुमार,नगर अध्यक्ष राजकुमार मेहता,नगर उपाध्यक्ष पप्पू मेहता,डोमचांच थाना प्रभारी अरुण कुमार पटेल,डोमचांच अंचल निरीक्षक कौशलेंद्र प्रसाद सिंह।
समाजसेवी लीलावती मेहता,कामिनी देवी ,कृष्णा सिंह,अशोक शर्मा,परमेश्वर यादव,डॉ कामेश्वर प्रसाद,कामख्या नारायण सिंह,राजेश सिंह,भरत नारायण मेहता,राजकिशोर सिंह ,नीलकंठ सिंह, परिमल सिंह,महेंद्र वर्मा,बसंत मेहता,मुरली राम,अरुण मेहता,मुकेश कुमार,रोहित मेहता, प्रेमचंद सिंह, अभिभावकगण, शिक्षकगण,एवं विद्यालय के सभी छात्र-छात्राओं ने मिलकर राष्ट्रगान गाया एवं तिरंगे को सलामी दी।
विद्यालय के अध्यक्ष श्री प्रदीप सिंह ने गणतंत्र दिवस के अवसर पर सबों को संबोधित करते हुए ये कहा कि आज ही के दिन दिनांक 26 जनवरी 1950 को हमारे स्वतंत्र भारत का संविधान लागू हुआ था । तब से लेकर आज तक हम सब संविधान के राह पर चल रहे है।
विद्यालय के निदेशक श्री नितेश सिंह ने इस अवसर पर गणतंत्र दिवस समारोह को सफल बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई एवं हमारे स्वंतत्र भारत के संविधान को सबों के समक्ष रखा।
निदेशक श्री नितेश सिंह ने ये भी कहा कि एक स्वतंत्र गणराज्य बनने और देश में कानून का राज स्थापित करने के लिए संविधान को 26 नवम्बर 1949 को भारतीय संविधान सभा द्वारा अपनाया गया था और 26 जनवरी 1950 को इसे एक लोकतांत्रिक सरकार प्रणाली के साथ लागू किया गया।
समारोह में विद्यालय के बच्चों ने एक से बढ़कर एक कला की प्रस्तुति दी जिसमे बच्चों ने नागपुरी सॉन्ग पर अपनी प्रतिभा दिखाई और आकर्षण का केंद्र रही। बच्चों ने पी.टी. ड्रिल,पिरामिड डांस,पेट्रियोटिक डांस,हिंदी स्पीच,इंग्लिश स्पीच,ग्रुप डांस,डुएट डांस,पेट्रियोटिक सॉन्ग आदि में बच्चों ने बढ़चढ़ कर हिस्सा लिया और सबों का मन मोहा ।
विद्यालय के उप-निदेशक श्री नीरज सिंह ने इस अवसर पर सम्बोधित करते हुए ये कहा कि यह संविधान ही है जो भारत के सभी जाति और वर्ग के लोगों को एक दूसरे जोड़े रखता है। भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है। 2 साल, 11 महीने और 18 दिन में यह बनकर तैयार हुआ था,साथ ही साथ उन्हें अपनी वाणी को एक भाव विवरण प्रस्तुत कर ये कहा कि “देशभक्तों के बलिदान से मिली आजादी हमको,
नमन उन वीर शहीदों को जिन्होंने दी कुर्बानी अपनी,
आज कोई पूछे तो गर्व से कहेंगे तिरंगा है हमारा
आजादी से पहले नहीं था ये लम्हा हमारा”
कर्यक्रम का समापन विद्यालय के निदेशक श्री नितेश सिंह के द्वारा किया गया । उन्होंने सबो को अपना तहे दिल से धन्यवाद पेश किया एवं अभिनंदन किया और विद्यालय के सभी शिक्षक-शिक्षिकाओं की सराहना की और उनकी बच्चों के प्रति लगन की जमकर तारीफ की।
विद्यालय के अकॉउंटेन्ट गुलाब चंद साहा एवं शिक्षक-शिक्षिकाओं में राघव सिन्हा,रजनीकांत पांडेय,संदीप कुमार,राजीव मिश्रा, आशीष कुमार,शिव कुमार,मो. इलयास अंसारी,निरंजन कुमार,विकाश यादव,रामलखन कुमार,अनुज सिन्हा,राजीव भरतपूरी,मो.नवाज़,
ममता सिन्हा,सना इक़बाल,स्नेहलता सिन्हा, सुनीता बारा, श्रेया प्रिया,नेहा भरतपुरी,सीमाराज,काजल साव, प्रतिमा कुमारी,अर्चना कुमारी,सुशांति बागे, काजल,तन्नू सिंह,शिवानी बक्शी,शम्मा परवीन,रजनी कुमारी,आलिया,अमीषा, राखी बर्णवाल, मुश्कान श्री,गुड़िया कुमारी,मोनिका,मंजू सिंह,आयुषी कुमारी,अलका,शालिनी सिन्हा,सोनम,गीता,वंशिका, रूबी कुमारी,लक्ष्मी कुमारी।
कार्यक्रम का मंच संचालन शिक्षक राघव सिन्हा की प्रस्तुति सराहनीय रही।

Continue Reading
You may also like...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in खबर सीधे आप तक

To Top