Connect with us

जन्मभूमि को कोरोना से बचाने की कवायद:रामलला के मुख्य पुजारी आइसोलेट हुए, जिस रास्ते से गुजरेंगे पीएम, उस 1 किमी को सैनिटाइज किया, सुरक्षा में सिर्फ 45 से कम उम्र के पुलिसवाले होंगे अयोध्याएक घंटा पहले

खबर सीधे आप तक

जन्मभूमि को कोरोना से बचाने की कवायद:रामलला के मुख्य पुजारी आइसोलेट हुए, जिस रास्ते से गुजरेंगे पीएम, उस 1 किमी को सैनिटाइज किया, सुरक्षा में सिर्फ 45 से कम उम्र के पुलिसवाले होंगे अयोध्याएक घंटा पहले

  • राम जन्मभूमि इलाके में मौजूद लोगों का एंटीजन टेस्ट किया जा रहा है, 5 अगस्त को एक साथ 5 से ज्यादा लोग इकट्ठा नहीं हो सकेंगे
  • तीन अगस्त से अयोध्या की सीमाएं सील हो जाएंगी, जिले में 10 कोविड टेस्ट सेंटर बनाए गए हैं, जहां कोई भी जांच करा सकता है

पीएम मोदी राम मंदिर के भूमिपूजन के लिए 5 अगस्त को अयोध्या आ रहे हैं। रामभक्त उत्साहित हैं। लेकिन कोरोना के बीच श्रीरामजन्मभूमि को कोरोना फ्री बनाए रखना बड़ी चुनौती है। यही वजह है कि 1 किमी के इस इलाके में मौजूद हर व्यक्ति का कोरोना टेस्ट किया जा रहा है।

रामलला के पुजारी को किया आइसोलेट

श्रीरामजन्मभूमि में रामलला की पूजा में लगे सहायक पुजारी के कोरोना पॉजिटिव आने के बाद उनके संपर्क में आए मुख्य पुजारी सतेंद्र दास, सहायक पुजारी अशोक और भंडारी को प्रशासन ने 3 दिन के लिए आइसोलेट कर दिया है। 3 अगस्त तक ये सभी आइसोलेट रहेंगे। इनकी जांच भी हो चुकी है और रिपोर्ट निगेटिव आई है।

जिस 1 किमी रास्ते से गुजरेंगे पीएम उसे सैनिटाइज किया, इलाके के लोगों का एंटीजन टेस्ट भी

यही नहीं जिस एक किलोमीटर के रास्ते से पीएम मोदी गुजरेंगे उसे भी सैनिटाइज किया जा रहा है। साकेत डिग्री कॉलेज में पीएम के लिए हैलीपैड बनाया गया है। यहां से पीएम रामजन्मभूमि तक जाएंगे, जो लगभग एक किमी लंबा है। उस इलाके में लोगों का एंटीजन टेस्ट किया जा रहा है।

5 अगस्त को एक जगह पर एक साथ 5 लोगों से ज्यादा लोग इकट्ठा नहीं हो सकेंगे

एसएसपी दीपक कुमार के मुताबिक सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम के अलावा उनकी पहली प्राथमिकता कोरोना को लेकर है। यही वजह है कि 3 अगस्त से ही अयोध्या की सीमाएं सील हो जाएंगी। साथ ही 5 अगस्त को एक जगह पर 5 से ज्यादा लोगों के इकट्ठा होने पर रोक रहेगी।

जिन पुलिसकर्मियों की उम्र 45 वर्ष से कम है, वही रहेंगे पीएम की सुरक्षा में

पीएम की सुरक्षा को और पुख्ता करने और उसे कोरोना फ्री करने के लिए जिला प्रशासन ने ऐसे 200 पुलिसकर्मियों को चुना है जिनकी उम्र 45 साल से कम हो और जिनका टेस्ट निगेटिव आया हो। ऐसे पुलिसकर्मी ही पीएम के सुरक्षा घेरे में रहेंगे।

जिले में 10 टेस्ट सेंटर बनाये गए है, जहां कोई भी फ्री टेस्ट करवा सकता है

जिला प्रशासन ने जिले भर में अलग-अलग जगहों पर 10 कोविड सेंटर बनाए हैं जहां लोग फ्री टेस्ट करवा सकते हैं। इनका समय सुबह 10 से 2 और 2 से 5 बजे तक है। जिले में पिछले 24 घंटों में 66 केस सामने आए हैं। जबकि एक्टिव केस की संख्या 1141 है। प्रधानमंत्री की यात्रा को लेकर अयोध्या में श्री राम अस्पताल को प्रशासन ने आइसोलेशन वार्ड बनाया है। इस वार्ड में 30 बेड प्रधानमंत्री की यात्रा को देखते हुए रिजर्व कर दिया है।

गौरतलब है कि 29 जुलाई को श्रीरामजन्मभूमि में काम करने वाले कर्मचारियों समेत पुजारियों का एंटीजन टेस्ट कराया गया था। जिसमें फायर ब्रिग्रेड के 3 जवान और एक एलआईयू के जवान की रिपोर्ट पॉजिटिव आयी थी। वहीं श्रीरामलला के मुख्य पुजारी के एक सहायक की रिपोर्ट भी पॉजिटिव थी। जिसके बाद से ही प्रशासन लगातार टेस्ट और जन्मभूमि में तैनात कर्मचारियों की निगरानी कर रहा है।

रामजन्भूमि के कर्मचारियों के लगातार हो रहे हैं टेस्ट

7 जुलाई को भी श्रीराम जन्मभूमि पर काम करनेवाले कर्मचारियों का टेस्ट किया गया था। जिसमे 1 जवान पॉजिटिव पाया गया था। 13 जुलाई को हुए टेस्ट में कोई भी पॉजिटिव नही मिला था। 29 जुलाई को एंटीजेन टेस्ट किया गया था। जिसमे सहायक पुजारी समेत 5 लोग पॉजिटिव पाए गए जिन्हें उपचार के लिए भेज दिया गया और संक्रमित स्थल का सैनिटाइजेशन का काम शुरू कर दिया गया।

वहीं अयोध्या जिले में पिछले तीन दिनों से लगभग 2,000 टेस्ट हर दिन हो रहे हैं

यहां राजर्षि दशरथ स्वशासी राज्य चिकित्सा महाविद्यालय में बने कोविड अस्पताल के बाहर खड़े दीपक नाम के एक युवक ने बताया कि मेरी बहन कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। 30 तारीख से अस्पताल में भर्ती है। उसके साथ आठ महीने का उसका बच्चा भी है। कल से कोई डॉक्टर उससे अंदर मिला नहीं है। बस साफ-सफाई करने वाले जानते हैं। वो परेशान हैं। ये तक किसी ने नहीं बताया है कि बच्चे को मां दुग्ध पिला सकती है या नहीं। वो अंदर से फोन पर ये सब बताती हैं और पूरा परिवार बाहर चिंतित है।’

आपको बता दें कि पूरे अयोध्या में यही एक कोविड-19 अस्पताल है जहां संक्रमित मरीजों का इलाज होता है। मिली जानकारी के मुताबिक 200 बेड वाले इस कोविड अस्पताल में इस वक्त 104 मरीज भर्ती हैं। जिसमें से 71 पुरुष और 33 महिलाएं हैं।

सरकार का दावा है कि 5 अगस्त के कार्यक्रम को देखते हुए ज़िले में कोरोना की टेस्टिंग को बढ़ाया गया है। यहां पहले रोजाना लगभग 600 टेस्ट हो रहे थे, लेकिन पिछले तीन दिनों से जिले में लगभग 2,000 टेस्ट हर दिन हो रहे हैं.

Continue Reading
You may also like...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in खबर सीधे आप तक

विज्ञापन | Advertisement

ट्रेन्डिंग् टॉपिक्स

विज्ञापन के लिए संपर्क करें: +91-8138068766

To Top