Connect with us

जनविरोधी केंद्रीय भाजपा सरकार रात के अंधेरे में देशवासियों के खून पसीने की कमाई लूटने में लगी है : राजीव रंजन प्रसाद…

खबर सीधे आप तक

जनविरोधी केंद्रीय भाजपा सरकार रात के अंधेरे में देशवासियों के खून पसीने की कमाई लूटने में लगी है : राजीव रंजन प्रसाद…

राँची : देश की जनता पर जुल्मो-सितम ढाया जा रहा है । 130 करोड़ भारतीय कोरोना से जंग लड़ रहे हैं ,रोजी-रोटी की मार झेल रहे हैं , आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं और संकट के इस समय में भी जनविरोधी केंद्रीय भाजपा सरकार रात के अंधेरे में देशवासियों की खून पसीने की कमाई लूटने में लगी है।उक्त बातें प्रतिक्रियास्वरूप प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद ने प्रेस बयान जारी करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि आज कच्चे तेल की कीमतें पूरी दुनिया में अपने न्यूनतम स्तर पर हैं। उनका लाभ 130 करोड़ देशवासियों को देने की बजाए मोदी सरकार पेट्रोल और डीज़ल पर निर्दयी तरीके से टैक्स लगाकर मुनाफाखोरी कर रही है। विपदा के समय इस प्रकार पेट्रोल-डीज़ल पर टैक्स लगाकर देशवासियों की गाढ़ी कमाई को लूटना ‘आर्थिक देशद्रोह’ है। कोरोना महामारी व गंभीर संकट के इस काल में पूरी दुनिया की सरकारें जनता की जेब में पैसा डाल रही हैं, पर इसके विपरीत केंद्र की भाजपा सरकार देशवासियों से मुनाफाखोरी व जबरन वसूली की हर रोज नई मिसाल पेश कर रही है।

देश की जनता का खून चूसकर अपना खजाना भरना कहां तक सही यह तर्कसंगत है। “जबरन वसूली” की सब हदें पार कर गई मोदी सरकार के कड़वे सच जानिए :

14 मार्च, 2020 की रात को केंद्रीय भाजपा सरकार ने पेट्रोल व डीज़ल पर 3 रु. टैक्स लगा दिया। कल रात के अंधेरे में लगभग 12 बजे एक बार फिर केंद्रीय भाजपा सरकार ने पेट्रोल व डीज़ल पर क्रमशः 10 रु. व 13 रु. प्रति लीटर का अतिरिक्त टैक्स लगा दिया। यानि मात्र 48 दिन में (14 मार्च से 4 मई के बीच) मोदी सरकार ने डीज़ल पर 16 रु. प्रति लीटर टैक्स व पेट्रोल पर 13 रु. प्रति लीटर टैक्स लगा दिया। अकेले आज की इस टैक्स बढ़ोत्तरी से मोदी सरकार जनता की जेब से 1,60,000 करोड़ रु. सालाना लूटेगी।

जब मोदी जी ने 26 मई, 2014 को कार्यभार संभाला, भारत की तेल कंपनियों को कच्चे तेल की लागत 108.05 अमेरिकी डॉलर या 6,330.65 रु. प्रति बैरल पड़ती थी। 1 बैरल में 159 लीटर होते हैं, यानि तेल की कीमत थी 39.81 रु. प्रति लीटर। वहीँ, 4 मई, 2020 को भारत की तेल कंपनियों को कच्चे तेल की लागत 23.38 अमेरिकी डॉलर या 1772 रु. प्रति बैरल पड़ती है। 1 बैरल में 159 लीटर होते हैं। यानि आज के दिन देश में प्रति लीटर तेल की लागत 11.14 रु. प्रति लीटर है तो फिर देशवासियों को 11.14 रु. प्रति लीटर वाला तेल 71.26 रु. प्रति लीटर (पेट्रोल) व 69.39 रु. प्रति लीटर (डीज़ल) क्यों बेचा जा रहा है?

राजीव रंजन प्रसाद ने कहा कि मई, 2014 में व 5 मई, 2020 को पेट्रोल-डीज़ल पर भारत सरकार द्वारा लिया जा रहा टैक्स है-मई, 2014 में डीज़ल पर केंद्रीय सरकार द्वारा 3.56 रु. प्रति लीटर टैक्स लिया जा रहा था। 5 मई, 2020 को डीज़ल पर केंद्र सरकार द्वारा 31.73 रु. प्रति लीटर टैक्स जा रहा है। इस प्रकार मोदी सरकार ने 5.5 साल में डीज़ल पर 28.17 रु. प्रति लीटर टैक्स बढ़ाया। इसी प्रकार मई, 2014 में पेट्रोल पर केंद्रीय सरकार द्वारा 9.48 रु. प्रति लीटर टैक्स लिया जा रहा था, जो 5 मई, 2020 को बढ़ाकर 32.98 रु. प्रति लीटर कर दिया गया है। मोदी सरकार ने 5.5 साल में पेट्रोल पर 23.50 रु. प्रति लीटर टैक्स बढ़ाया है।क्या मोदी सरकार इस मुनाफाखोरी का कारण बताएगी?

केंद्र की भाजपा सरकार ने 2014-15 से 2019-20 तक यानि 6 वर्षों में 12 बार पेट्रोल व डीज़ल पर टैक्स बढ़ाकर 130 करोड़ भारतीयों से 17 लाख करोड़ रु. वसूले हैं। इस जबरन वसूली का पैसा कहां गया, जब जनता को कोई राहत ही नहीं मिली? प्रधानमंत्री, श्री नरेंद्र मोदी सामने आकर 130 करोड़ भारतीयों को जवाब दें। 17 लाख करोड़ रुपए 6 साल में माननीय नरेन्द्र मोदी जी और उनकी सरकार वसूल चुके हैं। ये जबरन वसूली का पैसा कहाँ गया और जनता को राहत क्यों नहीं मिली? 130 करोड़ देशवासियों की ओर से हम मांग करते हैं कि देश के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी सामने आएं और देश को जवाब दें।

Continue Reading
You may also like...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in खबर सीधे आप तक

विज्ञापन | Advertisement

ट्रेन्डिंग् टॉपिक्स

विज्ञापन के लिए संपर्क करें: +91-8138068766

To Top