Connect with us

चीन ने लद्दाख में तैनान किए भारत से दोगुने लड़ाकू विमान

खबर सीधे आप तक

चीन ने लद्दाख में तैनान किए भारत से दोगुने लड़ाकू विमान

नई दिल्‍ली: गलवान विवाद के बाद भारत और चीनी अधिकारियों के बीच तनाव को कम करने के लिए कई दौर की बैठक हो चुकी है। दोनों ही देश यहां पर कुछ हिस्‍सों से पीछे भी हटे हैं, लेकिन भारत ने साफ कर दिया है कि वह 20 अप्रैल 2020 से पहले की स्‍थिति चाहता है। हालांकि चीन इसको लेकर राजी नहीं है, जिसके बाद दोनों देशों में सही तरह से बात नहीं बन पा रही है। भारत सहित दुनिया के तमाम देश चीन की मंशा पर भी सवाल खड़े कर रहे हैं। ऐसे में अमेरिकी विश्लेषकों ने जानकारी दी है कि चीन ने भारत की विवादित उत्तरी सीमा पर अपने लड़ाकू जेट विमानों को दोगुना कर दिया है।

अमेरिकी वायु सेना के चाइना एयरोस्पेस इंस्टीट्यूट (CASI) के एक अनुमान के अनुसार, 28 जुलाई तक चीन ने झिंजियांग क्षेत्र में हॉटन एयर बेस पर लद्दाख के विवादित पूर्वोत्तर भारतीय क्षेत्र के पास 36 विमान और हेलीकॉप्टर तैनात किए हैं। इसमें 24 रूसी-डिज़ाइन किए गए J-11 या J-16 फ़्लेंकर फ़ाइटर्स शामिल हैं। इसके अलावा छह पुराने J-8 फाइटर, दो Y-8G ट्रांसपोर्ट, दो KJ-500 एयरबोर्न अर्ली वॉर्निंग एयरक्राफ्ट, दो Mi-17 हेलिकॉप्टर साथ कई CH-4 स्ट्राइक/टोही ड्रोन हैं।

पीपुल्स लिबरेशन आर्मी एयर फोर्स (PLAAF) के पास जून में यहां पर चीनी और भारतीय सैनिकों के बीच होने वाली झड़पों से पहले सिर्फ 12 फ्लैनर्स और कोई सपोर्ट एयरक्राफ्ट नहीं थे। CASI का अनुमान यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के प्रहरी-2 अर्थ ओबजरवेशन सैटेलाइट से लिए गए इमेज पर आधारित है। कैसरी के अनुसंधान निदेशक रॉड ली ने बताया, “पता चलता है कि कुछ उड़ान गतिविधि है, इसलिए इन विमानों को केवल दिखाने के लिए पार्क नहीं किया गया है।”

हालांकि, लद्दाख में चीनी वायुसेना रक्षात्मक रूप में है। वह भारतीय विमानों से चीनी जमीनी सैनिकों की सुरक्षा के साथ-साथ टोही मिशनों को पूरा करने और भारतीय पुनर्निर्माण उड़ानों को अवरुद्ध करने पर ध्यान केंद्रित की लिए यहां पर है। जबकि चीनी लड़ाके भारतीय वायुसेना को दबाने के लिए भारतीय हवाई जहाजों पर हमला कर सकते थे। वर्तमान में PLAAF की भूमिका ISR [खुफिया, निगरानी और टोही] को प्रदान करने और भारत को अकेले उसकी उपस्थिति से बचने में सहायता प्रदान करने की संभावना है।

चीन के लड़ाकों को लद्दाख में एक प्रबलित भारतीय बल का सामना करना पड़ेगा, जिसमें अब पांच नए आए फ्रांसीसी-निर्मित राफेल सेनानियों के साथ-साथ कम उन्नत मिग-29 K लड़ाकू भी शामिल हैं। भारत के विशेषज्ञ दावा करते हैं कि राफेल सभी चीनी लड़ाकू विमानों से बेहतर है, जबकि चीनी मीडिया का दावा है कि राफेल का चीन के जे-20 स्टील्थ फाइटर से कोई मुकाबला नहीं है।

इस क्षेत्र में पहले 1962 का युद्ध हुआ था, जब चीन ने बिना तैयारी के भारतीय बलों को हराया और अक्साई चिन क्षेत्र पर कब्‍जा कर लिया था। चीनी और भारतीय विमान दोनों लद्दाख से हवाई क्षेत्र से बाहर तक पहुंच सकते हैं, लेकिन भारत के पास वहां बढ़त है। विवादित सीमा के सबसे नज़दीकी चीनी ठिकाने काशगर, लद्दाख के उत्तर-पश्चिम में 350 मील और दक्षिण-पूर्व में Ngari Kunsha हैं। झिंजियांग और तिब्बत में चीन के पास बड़े एयरबेस हैं, लेकिन वे 600 मील की दूरी पर हैं, जिसका मतलब है कि लड़ाकू विमानों को चीन की सीमित हवाई ईंधन भरने की क्षमता को बाधित करेगा

Continue Reading
You may also like...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in खबर सीधे आप तक

विज्ञापन | Advertisement

ट्रेन्डिंग् टॉपिक्स

विज्ञापन के लिए संपर्क करें: +91-8138068766

To Top