Connect with us

चंदवा में मुहर्रम का जुलूस निकाला, या हुसैन या अली के नारे लगाए।

खबर सीधे आप तक

चंदवा में मुहर्रम का जुलूस निकाला, या हुसैन या अली के नारे लगाए।

  • बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतिक है मुहर्रम।
  • कर्बला में फात्हा सलाम के साथ संपन्न हो गया।
  • आकर्षक ताजिया को कोरोना को देखते हुए नहीं निकाला।

  • चंदवा:-

मुहर्रम की दसवीं (पहलाम) को चंदवा में जुलूस निकाला गया. अकिदतमंदों ने या हुसैन या अली के नारे लगाए. कामता बेलवाही शुक्रबजार मे आकर्षक ताजिया का निर्माण किया गया था लेकिन कोरोना महामारी को देखते हुए ताजिया का जुलूस नहीं निकाला गया. कामता बेलवाही कुजरी शुक्रबजार परसाही तिलैयाटांड़ से शिर्फ अखाड़ा निशान जुलूस निकाला गया.जो कामता चेकनाका, टोरी रेलवे क्रॉसिंग, सुभाष चौंक मेन रोड होते हुए इंदिरा गांधी चौंक पहुंचा यहां फात्हा सलाम की रश्म पुरी कर कर्बला पहुंचा. इसमें शामिल लोग या हुसैन या अली के नारे लगाए.


हजरत इमाम हुसैन तथा बादशाह यजीद की सेना के बीच कर्बला की जंग हुई थी, हजरत इमाम हुसैन अपने परिवार और दोस्तों के साथ इसमें शहीद हो गए ​थे. बताया जाता है ​कि हजरत इमाम हुसैन ने इस्लाम की रक्षा के लिए मोहर्रम के 10वें दिन स्वयं को कर्बला में कुर्बान कर दिया था. इस दिन को आशूरा के रूप में भी जाना जाता है, इसकी याद में ही हर वर्ष मातम मनाया जाता है, कर्बला में फात्हा सलाम के साथ मुहर्रम संपन्न हो गया।

इस बार इसलिए नहीं निकाली मोहर्रम की ताजिया।

सामाजिक कार्यकर्ता अयुब खान ने बताया कि कोरोना महामारी को देखते हुए इस बार मोहर्रम पर कामता बेलवाही शुक्रबजार मे बनाए गए आकर्षक ताजिया नहीं निकाली गई. सरकार और जिला प्रशासन के दिशा निर्देशों का पालन किया गया, सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करने के लिए तथा लोगों की सेहत और जीवन के जोखिम को देखते हुए ऐसा किया गया था. ऐसा करने से कोरोना वायरस का लोगों में संक्रमण तथा फैलाव नहीं होगा, फातिहा और निशान जैसे कार्यक्रम शारीरिक दूरी के नियमों का पालन करते हुए किया गया है. बनाए गए आकर्षक ताजिया निकालने से हजारों की भीड़ हो जाती, यह त्योहार बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतिक है।

इस अवसर पर ग्यास खान, अयुब खान, इरफान खान फानु, शाहीद खान, असगर खान, रबुल खान, जावेद खान, बाबर खान, मनाजरूल खान, हैदर मियां, शाहबान खान, जलील खान, अनवर खान, जमरुल खान, समीर खान, रिजवान खान, सरफुद्दीन मियां, फिरोज खान, मो0 मुस्तक, मो0 मोकतार, सुलतान खान, कलाम कादरी, अमजद खान, जसीम बाबा, सदाम खान, इमरान खान, मलीजान खान, नेजाबु मियां, इबरार खान, बारीक खान, अलताफ खान, नौसाद खान, रेहान खान, रिजवानुल राईन, मोफील खान, इफ्तेखार खान, जाकीर खान, असलम खान, इसलाम खान, नसरूदीन मियां, वाजीद खान, साबीर खान, हमीद खान, पिंटु खान, रमजान खान, कमरूद्दीन खान समेत कई लोग शामिल थे।

Continue Reading
You may also like...
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

More in खबर सीधे आप तक

विज्ञापन | Advertisement

ट्रेन्डिंग् टॉपिक्स

विज्ञापन के लिए संपर्क करें: +91-8138068766

To Top